Image default
JamshedpurJharkhandSeraikela / Kharswan

चांडिल : रांची से टाटा जाने के क्रम में जा सकती राहगीरों की जान, नेशनल हाईवे पर लगा बेरिकेड्स दे रहा दुर्घटना को आमंत्रण, कुम्भकर्णी नींद में NHAI के अधिकारी, प्रशासन भी मूकदर्शक

रांची से टाटा तरफ जाने वाली सड़क पर चिलगु में लगाए गए बेरिकेड्स

सरायकेला – खरसवां । (विश्वरूप पांडा) जिले में प्रशासन है या नहीं? प्रशासन को जनता के परेशानियों से किसी तरह का सरोकार नहीं है क्या? ऐसा इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि इस दृश्य को देखने के बाद शायद आप भी यही कहेंगे। इस खबर को पढ़ने से पहले आप इस बात का ध्यान रखें कि टाटा -रांची नेशनल हाईवे पर चलते समय स्वयं सावधानी बरतें। क्योंकि NHAI के अधिकारी कुम्भकर्णी नींद में है। जिला प्रशासन भी मूकदर्शक बनी हुई हैं। यदि आप रांची से टाटानगर की ओर सफर कर रहे हैं तो चांडिल गोलचक्कर पार करने के बाद अपने वाहन की गति धीमी कर लें, क्योंकि यदि आपने वाहन की गति को धीमी नहीं किया तो आगे चलकर आपकी जान भी जा सकती हैं। ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि NHAI ने दुर्घटना के लिए पुख्ता प्रबंध किया है।


जिले के चांडिल थाना अंतर्गत चिलगु में नेशनल हाईवे पर पिछले दस दिन से एक जगह बेरिकेड्स लगाकर वनवे करके छोड़ दिया गया है। चिलगु मोड़ से शहरबेड़ा मोड़ तक करीब एक किलोमीटर सड़क पर सिंगल लेन से वाहनों की आवागमन हो रही हैं। अभी टाटा – रांची हाइवे फोरलेन का रूप ले चुकी हैं, ऐसे में लंबे समय तक सिंगल लेन रखना दुर्घटना को आमंत्रण देने जैसा है।

चिलगु मोड़ पर NHAI द्वारा कंक्रीट के स्लैब रखकर बेरिकेड्स लगा दिया गया है, जिससे कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती हैं। नेशनल हाईवे पर जिस तरह से वाहनों की गति होती हैं, ऐसे में कंक्रीट स्लैब से बेरिकेड्स करना कहीं से उचित नहीं है। यदि किसी कारणवश मोटरसाइकिल उक्त बेरिकेड्स से टकरा गए तो मोटरसाइकिल सवार की जान बचना मुश्किल हो सकता है। दूसरी तरफ नेशनल हाईवे को सिंगल लेन करके छोड़ दिया है, इससे भी वाहनों के आपस में टक्कर होने की संभावना बनी हुई हैं।

बेरिकेड्स लगाकर नेशनल हाईवे को सिंगल लेन बनाकर दस दिन से छोड़ा हुआ है। न कहीं कोई निर्माण कार्य चल रहा है और न ही कोई वाहन ब्रेकडाउन होकर खड़ी है। प्रशासन भी मूकदर्शक बनी हुई हैं और शायद NHAI के अधिकारी भी कुम्भकर्णी नींद में है।

जर्जर पुल के कारण लगाया गया है बेरिकेड्स लेकिन मरम्मत नहीं हो रहा

चिलगु – शहरबेड़ा के बीच स्थित जर्जर पुल

दअरसल, नेशनल हाईवे चौड़ीकरण के समय से ही चिलगु और शहरबेड़ा के बीच स्थित पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। चौड़ीकरण कार्य पूरा होने के कुछ दिन बाद ही उक्त पुल जर्जर हो गई हैं। समय समय पर पुल की मरम्मत के नाम पर लीपापोती कर छोड़ दी जाती हैं। बार बार पुल के जर्जर हो जाने से अबतक कई दुर्घटनाएं भी हुई हैं और लोगों ने अपनी जान गंवाई है। जब भी पुल पर दुर्घटना होती हैं तो चिलगु मोड़ पर नेशनल हाईवे को बंद कर दिया जाता है और पुल से आवागमन रोक दिया जाता हैं। सिंगल लेन से वाहनों का आवागमन होता है।
विगत 31 जुलाई की रात को उक्त पुल के जर्जर हालत कारण दुर्घटना हुई थी। पुल के ऊपर बने बड़े बड़े गड्ढों में फंसकर दो ट्रक की दुर्घटना हुई थी। उक्त दुर्घटना के बाद पुल के मरम्मत की बात कहते हुए पुल से आवागमन बाधित कर दिया गया है लेकिन दस दिन बाद भी अबतक मरम्मत कार्य शुरू नहीं किया गया है। क्या फिर एक बड़ी दुर्घटना होने का इंतजार किया जा रहा है?

Related posts

चांडिल : मणिपुर हिंसा से आक्रोशित आदिवासी समुदाय के लोगों ने पीएम, सीएम व बाबूलाल मरांडी का पुतला फूंका

admin

नेताजी क्लब फुटबॉल महाकुंभ के फाइनल मैच में ध्रुव सपोर्टिंग व बम बम भोले के बीच हुई कांटे की टक्कर – टॉस जीतकर बम बम भोले बनी विजेता

admin

सब इंस्पेक्टर को मंत्री ने दिए एक हजार रुपये, जानिए क्यों?

admin

Leave a Comment