Image default
JharkhandSeraikela / Kharswan

कार्तिक पूर्णिमा पर संथाल समाज ने मनाया कुनामी सोहराय

सरायकेला – खरसवां : जिले के चांडिल प्रखंड अंतर्गत कांदरबेड़ा में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर आदिवासी – संथाल समाज द्वारा कुनामी सोहराय पर्व धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। वहीं, विधि विधान से महिलाओं ने गाय – बैल की पूजा अर्चना की। इसके बाद बैलों को पुरुषों द्वारा नचाया गया। ढोल – नगाड़ा और मांदर बजाकर पारंपरिक गीत – संगीत के साथ संथाल समाज के लोगों ने उत्साहपूर्वक सोहराय पर्व को मनाया।

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में सीएम हेमंत सोरेन के मामा चारु चांद किस्कू व विशिष्ट अतिथि के रूप झामुमो के वरिष्ठ नेता सुकराम हेम्ब्रम उपस्थित हुए। अतिथियों ने विधिवत से फीता काटकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

मौके पर सीएम के मामा चारु चांद किस्कू ने संथाल समाज के लोगों को कुनामी सोहराय की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि हासा, भाषा, चासा यही हमारी पहचान है। इसके बिना आदिवासी की कल्पना नहीं हो सकती। हमारी संस्कृति, पर्व, त्यौहार, परंपरा में ही हमारी विरासत है।

पशुधन के प्रति आस्था का पर्व है सोहराय : सुकराम हेम्ब्रम

झामुमो नेता सुकराम हेम्ब्रम ने कहा कि कुनामी सोहराय हर साल कार्तिक पूर्णिमा की रात को संथाल समाज द्वारा मनाया जाता है। यह हमारी प्राचीन सभ्यता और संस्कृति है। वहीं, सोहराय पशुधन के प्रति आस्था का पर्व भी है। उन्होंने कहा कि सोहराय के अवसर पर समाज के सभी लोगों का एक स्थान पर जुटान होना और अपने पूर्वजों की परंपरा अनुसार उत्साह मनाना, अपने आप में अनोखा पर्व है। सुकराम हेम्ब्रम ने कहा कि नई पीढ़ी को हमारे संस्कृति और परंपरा की जानकारी होनी चाहिए, ताकि इसका संरक्षण हो सके। इसके लिए जरूरी है कि हर सांस्कृतिक और पारंपरिक कार्यक्रम के आयोजन में समाज के लोगों की उपस्थिति हो। उसमें युवा पीढ़ी की उपस्थिति अत्यंत आवश्यक है।

Related posts

मानभूम गीतमाला सीरिज का हुआ मुहूर्त, राड़ बांग्ला गीतों पर फोकस

admin

ईचागढ़ : सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के शिलापट्ट से स्वास्थ्य मंत्री का नाम गायब

admin

स्वदेशी मेले में वरिष्ठ नागरिकों का संगोष्ठी एवं युवाओं के बीच त्वरित भाषण प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

admin

Leave a Comment