Image default
CrimeSeraikela / Kharswan

चांडिल : ईंट भट्ठों के संचालक काट रहे नदी किनारे मिट्टी, खतरे में है सुवर्णरेखा नदी का अस्तित्व

सरायकेला – खरसवां : जिले के चांडिल थाना क्षेत्र के सुवर्णरेखा नदी के किनारे चिलगु, शहरबेड़ा, पूड़ीसिली में दर्जनभर ईंट भट्ठे संचालन किया जा रहा है। उन ईंट भट्ठों के लिए धड़ल्ले से मिट्टी खनन की जा रही हैं। नियमों को ताक में रखकर अनियमित ढंग से मिट्टी खुदाई की जा रही हैं। इससे सुवर्णरेखा नदी का अस्तित्व खतरे में आ गई हैं। नदी किनारे से मिट्टी की खनन करने के कारण सुवर्णरेखा नदी का स्वरूप बदल गया है। यदि इसी तरह से अवैध खनन चलता रहा तो निकट भविष्य में नदी किनारे स्थित गांवों में बाढ़ आने की संभावना बढ़ जाएगी।

ईंट भट्ठा संचालकों द्वारा सुवर्णरेखा नदी किनारे खनन किए जाने से नदी और गांव का समतल होने लगा है। इससे बारिश के समय जब नदी में अधिक मात्रा में पानी बहेगी तो सीधे गांव तक आ सकती हैं।

बगैर कागजात के चल रहे ईंट भट्ठे, प्रशासन भी मौन

बताया जाता है कि चांडिल थाना क्षेत्र के शहरबेड़ा, चिलगु तथा कपाली ओपी अंतर्गत पुडीसिली में दर्जनभर ईंट भट्ठा संचालन किया जा रहा है। इनमें कमल भट्टा, बिजय भट्ट, विश्वास भट्टा, लक्ष्मी भट्टा आदि शामिल हैं। इन ईंट भट्ठों को अवैध रूप से संचालित किया जा रहा है। इनके पास खनन विभाग, प्रदूषण विभाग, पर्यावरण विभाग, वन विभाग से संबंधित जरूरी कागजात नहीं है। वहीं, कागजात न होने के बाद भी अनियमित ढंग से खनन किया जा रहा है। मापदंडों के विरुद्ध खनन कर ईंट निर्माण किया जा रहा है और उन्हें जमशेदपुर शहर में मोटी रकम पर बेची जा रही हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सुवर्णरेखा नदी किनारे संचालित हो रही ईंट भट्ठों के संचालक, संबंधित विभाग के अधिकारियों की जेब गर्म रखते हैं। इससे अधिकारी अवैध खनन क्षेत्र में झांकने भी नहीं आते हैं और न ही किसी तरह की कार्रवाई करते हैं। वर्षों से अधिकारियों की जेब गर्म रखने की प्रकिया चल रही हैं।

Related posts

‘आपकी योजना – आपकी सरकार – आपके द्वार’ में कल्याणकारी योजनाओं का ऑन द स्पॉट दिया गया लाभ

admin

कोल्हान : 18 को आजसू का प्रमंडलीय कार्यकर्ता सम्मेलन

admin

कॉलोनी वासियों ने चोर को पकड़कर किया पुलिस के हवाले

admin

Leave a Comment