Image default
JharkhandSeraikela / Kharswan

चांडिल : बेलगाम हो चुकी BSIL कंपनी के प्रदूषण से ग्रामीणों को हो रही अस्थमा, चर्मरोग समेत अन्य भयंकर बीमारी

BSIL कंपनी मेन गेट

सरायकेला – खरसवां : जिले के चांडिल प्रखंड के छोटालाखा स्थित बिहार स्पंज आयरन लिमिटेड कंपनी बेलगाम हो चुकी हैं। ऐसा माना जा रहा है कि कंपनी के ऊपर राज्य सरकार एवं जिला प्रशासन का कोई नियंत्रण नहीं है। खुलेआम कानून की धज्जियां उड़ाते हुए कंपनी संचालित हो रही हैं। कंपनी की मनमानी से न केवल स्थानीय कर्मचारी परेशान हैं, बल्कि आसपास के हजारों ग्रामीण भी परेशान हैं। अब तो ऐसी स्थिति है कि ग्रामीणों का अस्तित्व भी खतरे में आ गई हैं लेकिन दूसरी ओर जिला प्रशासन कुम्भकर्ण की तरह नींद में है जो जागने का नाम नहीं ले रही हैं।

कंपनी से निकल रही काली धूल और धुंआ

कंपनी से फैल रही प्रदूषण जानलेवा हो रही हैं। प्रदूषण का आलम यह है कि आस पास से दर्जनों गांव में दिन रात काले धूल और धुंआ उड़ती हैं। प्रतिदिन घरों के आंगन व छत पर धूल की मोटी परत जमा हो जाती हैं। खेतों में भी धूल की मोटी परत जमा हो गई, जिससे गाय, बकरी, भेड़ आदि पालतू जानवरों को आहार नहीं मिल रही हैं। वहीं, उन खेतों में फसल भी लगाना संभव नहीं है।

गोभी के पत्ते पर जमी धूल की काली परत

किसानों के खेतों तथा खलिहान में रखे पुआल इत्यादि नष्ट हो रहे हैं। नवजात शिशुओं को तरह तरह की बीमारी होने लगी हैं। अब बिहार स्पंज आयरन लिमिटेड कंपनी (BSIL) के प्रदूषण से स्थानीय ग्रामीणों को अस्थमा, चर्मरोग समेत कई भयंकर बिमारी हो रही हैं। इस बात का खुलासा स्थानीय जनप्रतिनिधि तथा ग्रामीण ही कह रहे हैं। कंपनियों के ऊपर नियंत्रण रखने तथा मापदंड का पालन सुनिश्चित कराने का दायित्व जिला प्रशासन को है। लेकिन जिला प्रशासन के ढुल मूल रवैये से परेशान ग्रामीण अब स्वयं आंदोलन की रूपरेखा तैयार कर रहे हैं।

चांडिल एसडीओ को ज्ञापन देते हुए प्रमुख, मुखिया, उपमुखिया एवं अन्य

मंगलवार को चांडिल प्रमुख अमला मुर्मू के नेतृत्व में जनप्रतिनिधियों का एक प्रतिनिधिमंडल चांडिल एसडीओ रंजीत लोहरा से मुलाकात की। इस प्रतिनिधिमंडल में भादूडीह के मुखिया बुद्धेश्वर बेसरा, उप मुखिया सोनाली महतो समेत पंचायत के अन्य वार्ड सदस्य शामिल थे। इस दौरान मुखिया द्वारा एसडीओ को एक ज्ञापन सौंपा गया। एसडीओ को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि BSIL कंपनी से भादूडीह पंचायत के साथ साथ अगल बगल के पंचायत रूदिया तथा चिलगु पंचायत प्रभावित है। तालाब का पानी प्रदूषित हो रही हैं। खेतीबाड़ी, पालतू जानवर बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं। वहीं, ग्रामीणों को अस्थमा, चर्मरोग समेत अन्य भयंकर बीमारियां हो रही हैं। भादूडीह मुखिया बुद्धेश्वर बेसरा द्वारा एसडीओ को सौंपे गए उक्त ज्ञापन से एक बात स्पष्ट हो रहा है कि बिहार स्पंज आयरन लिमिटेड कंपनी (BSIL) बेलगाम होकर कंपनी संचालन कर रही हैं। जिस तरह से नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए प्रदूषण फैलाया जा रहा है, इससे प्रतीत होता है कि कंपनी प्रबंधन को तनिक भी कानून का भय नहीं है।

बिहार स्पंज आयरन लिमिटेड में नहीं मिल रही स्थानीय लोगों को रोजगार : प्रमुख

चांडिल प्रमुख अमला मुर्मू ने बताया कि बिहार स्पंज आयरन लिमिटेड (BSIL) कंपनी में स्थानीय लोगों को रोजगार नहीं मिल रही हैं, इस बात की शिकायत हमेशा आती हैं। कंपनी प्रबंधन द्वारा सीएसआर फंड का उपयोग ग्रामीणों की सेवा में उपयोग नहीं किया जा रहा है। शायद प्रबंधन द्वारा कागजी खानापूर्ति किया जा रहा है, प्रशासन को कंपनी के कागजातों की जांच करनी चाहिए। प्रमुख अमला मुर्मू ने कहा कि कंपनी के प्रदूषण से ग्रामीण परेशान हैं, ग्रामीणों का घर में रहना मुश्किल हो गया है। यदि कंपनी प्रबंधन प्रदूषण नियंत्रण नहीं करती हैं तो उपायुक्त कार्यालय के समक्ष धरना में बैठेंगे।

Related posts

हर दौर में प्रासंगिक रहेंगे बिनोद बाबू के विचार: सुदेश महतो

admin

रेल टेकार डाक होयेछे बिसेय सेप्टेंबर – चार घंटे से रेल जाम

admin

रेलवे अंडरपास शिलान्यास में भाजपा/झामुमो किचकिच

admin

Leave a Comment