Image default
JharkhandSpecial

झारखंड, बंगाल, ओडिशा में बांदना और सोहराय पर्व की धूम

डेस्क : दीपावली और काली पूजा के ठीक खत्म होने के बाद ही झारखंड के साथ साथ पश्चिम बंगाल और ओडिशा के ग्रामीण क्षेत्रों में सोहराय और बांदना पर्व की धूम मची है। झारखंड के प्रायः सभी जिलों के साथ पश्चिम बंगाल के पुरुलिया, झाड़ग्राम, मिदनापुर, ओडिशा के मयूरभंज जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में धूमधाम से पर्व त्यौहार मनाया जा रहा है। सोहराय और बांदना पर्व को लेकर ग्रामीण/किसान खासा उत्साह में देखने को मिल रही हैं। स्वाभाविक है कि इस साल धान की फसल औसतन अच्छी हुई हैं। जिससे किसानों में खुशी है।

पशुधन के प्रति प्रेम का प्रतीक है सोहराय/बांदना पर्व

सोहराय और बांदना पर्व प्रायः एक जैसा ही है। किसान अपने घरों के गाय और बैल को अच्छी तरह से नहलाने के बाद पूजा अर्चना करते हैं। गाय व बैल का सत्कार किया जाता है। वहीं, अगले दिन से बैलों को नचाने की परंपरा है। इस समय ग्रामीण क्षेत्रों में बैलों को नचाया जा रहा है। उमंग और उत्साह के साथ खूंटा गाड़ कर उसमें बैल को बांधकर नचाया जा रहा है। ढोल, नगाड़ा और मांदर की थाप पर अहिरा गीत गाकर लोक मनोरंजन की परंपरा काफी प्राचीन समय से चली आ रही हैं। सोहराय और बांदना पर्व प्रायः एक ही तरह का है, केवल अलग अलग नाम से जाना जाता है। आदिवासी समाज के संथाल जाति सोहराय कहते हैं, जबकि अन्य जातियों में बांदना के नाम से प्रसिद्ध हैं।

कला – संस्कृति का प्रचार प्रसार करने वाले युवा कलाकार शौरभ को जानिए

युवा कलाकार शौरभ प्रमाणिक झारखंड की कला और संस्कृति को समय समय पर पेंटिंग के माध्यम से प्रचार प्रसार करने के लिए प्रसिद्ध हैं। सरायकेला – खरसवां जिले के चांडिल निवासी शौरभ प्रमाणिक अपने कला से ग्रामीणों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते हैं। इस समाचार में जो पेंटिंग आप देख रहे हैं, उसे कलाकार शौरभ प्रमाणिक ने अपने हाथों से पेंटिंग कर तैयार किया है। शौरभ प्रमाणिक हमेशा झारखंड के पर्व – त्यौहार के मौके पर अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं। सोशल मीडिया पर शौरभ के कलाकारी को खूब सराहा जाता है। शौरभ प्रमाणिक के हाथों बने पेंटिंग्स की देश ही नहीं बल्कि विदेशों तक मांग है।

Related posts

जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक संपन्न, विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर हुई चर्चा

administrator

झारखंड : अगले 24 घंटे तक राज्य के इन जिलों में छाए रहेंगे घने कोहरे, वाहन चलाते समय रखें इन बातों का ध्यान

admin

15 अक्टूबर को आजसू अधिवक्ता संघ का एक दिवसीय राजस्तरीय अधिवेशन

admin

Leave a Comment